अस्पताल में न लगाए भीड़,अनावश्यक लोगों को साथ न लाये मरीज़,420 प्रसव वही एसएनसीयू के द्वारा 114 बच्चों को मिला लाभ

0
20

अस्पताल में न लगाए भीड़,अनावश्यक लोगों को साथ न लाये मरीज़,420 प्रसव वही एसएनसीयू के द्वारा 114 बच्चों को मिला लाभ

झाँसी,

कोविड-19 संक्रमण का दायरा धीरे धीरे बढ़ता जा रहा है, जिसमें अब बचाव के लिए कार्य कर रहे लोग भी शामिल होने लगे है। ऐसे में जरूरी है कि अस्पतालों में अनावश्यक भीड़ न लगाए, मरीज़ के साथ एक ही तीमारदार आए और मुख्यतः ऐसे लोगों को साथ न लेकर आए, जिनकी आयु 55 साल से ऊपर हो। साथ ही कोशिश करे कि 10 साल से छोटे बच्चों को भी अनावश्यक रूप से ना लाए, क्योंकि उनमे संक्रमण होने की ज्यादा संभावना होती है। यह कहना है जिला महिला अस्पताल की चिकित्सा अधीक्षक डॉ॰ वसुधा अग्रवाल का।

वह बताती है कि जनपद में कोरोना मरीज़ को लेकर हालत बिगड़ते जा रहे है, ऐसे में स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक सुविधाएं लोगों को दी जा रही है। महिला अस्पताल में भी गर्भवती महिलाएं जांच और प्रसव के लिए आ रही है। संक्रमण से बचने का एक मात्र तरीका यही है कि हम भीड़ न लगाए। सामाजिक दूरी और हाथ धुलने की प्रक्रिया के लिए हमें और ज्यादा संवेदनशील होने की आवश्यकता है। और ये संवेदनशीलता अस्पतालों में मुख्य रूप से दिखनी होगी। अगर स्वास्थ्य कर्मी ही संक्रमित होते रहेंगे तो फिर इलाज़ कौन करेगा।

अस्पताल के मैनेजर डॉ॰ गौरव सक्सेना बताते है कि कोरोना बचाव में कार्य कर रहे स्वास्थ्य कार्यकर्ता के पास विकल्प नही है वह नैतिक ज़िम्मेदारी के तहत दिन रात लगे हुये है, ऐसे में लोगों को उनका सहयोग देना चाहिए।

अस्पताल में कराये गए 420 प्रसव वही एसएनसीयू के द्वारा 114 बच्चों को मिला लाभ

डॉ॰ गौरव सक्सेना ने बताया कि अप्रैल 2020 से जून 2020 तक अस्पताल में 373 सामान्य व 47 ऑपरेशन सहित कुल 420 महिलाओं का प्रसव कराया गया। वही कुल 4721 ओपीडी की गयी। अस्पताल में स्थित सिक न्यूबोर्न केयर यूनिट में 52 बाहरी और 62 अस्पताल में ही जन्में सहित कुल 114 बच्चों को मेडिकल सुविधा दी गयी ।