भोलेनाथ के अभिषेक के साथ किया 9000 वृक्षों का रोपण:रिपोर्ट-=आयुष साहू

0
24

झांसी। बुंदेलखंड कांवड़ यात्रा समिति द्वारा 12 स्थानों पर एक साथ भगवान भोलेनाथ का अभिषेक किया गया। अभिषेक का प्रारंभ झांसी के सिद्धेश्वर मंदिर पर नगर धर्माचार्य हरिओम पाठक के साथ समिति के आयोजक संजीव श्रृंगीऋषि, संयोजक हेमंत परिहार, सदस्य निशांत शुक्ला, रिंकू गुप्ता, नीरज सिंह ने जूम ऐप के माध्यम से अभिषेक प्रारंभ किया। समिति के सभी सदस्यों ने भारत में तेजी से फैल रही कोरोना जैसी महामारी को खत्म करने की भगवान भोलेनाथ से प्रार्थना की।


कांवड़ यात्रा समिति के आयोजक संजीव श्रृंगीऋषि एवं संयोजक हेमंत परिहार ने बताया कि इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते कांवड़ यात्रा को स्थगित किया गया था और यह निर्णय लिया गया था की इस श्रावण मास में बुंदेलखंड कावड़ यात्रा समिति भगवान भोलेनाथ के अलग-अलग मंदिरों में 51 अभिषेक करेगी और इसी के साथ साथ बुंदेलखंड के सभी जिलों में 51000 पेड़ लगाने का काम करेगी। नीरज सिंह ने जूम ऐप के माध्यम से सभी लोगों के मध्य सम्पर्क स्थापित करने का कार्य किया। धर्माचार्य हरिओम पाठक ने जूम के द्वारा पूर्णतया लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए इस ऑनलाइन पहल की सराहना की। 12 मंदिरों पर एक साथ भगवान भोलेनाथ का अभिषेक किया गया और इन्हीं स्थानों पर वृक्ष भी लगाए गए। उन्होंने बताया कि श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार को इसी तरह जलाभिषेक एवं वृक्षारोपण के कार्यक्रम होंगे। झांसी के दतिया गेट बाहर देवेश चतुर्वेदी ने, सीपरी बाजार में सचिन मिश्रा ने, पुलिया नंबर 9 में निर्मल कुशवाहा ने, बरुआसागर में रुपेश नायक ने, पठारी में संजीव अहिरवार ने, दतिया में उमरे के ईसीसी डेलीगेट पुनीत गुप्ता ने, मोठ में मनमोहन चैहान ने, ललितपुर में शैलेंद्र परिहार ने, महोबा में मथुरा प्रसाद ने, निबाड़ी मैं बृजेश तिवारी ने 12 स्थानों भगवान भोलेनाथ का अभिषेक किया और भगवान भोलेनाथ से प्रार्थना की जो संकट का समय है, महामारी फैली हुई है। 12 मंदिरों के स्थानों के अलावा 30 अन्य स्थानों पर भी वृक्षारोपण किया गया जिसमें लगभग 9000 पेड़ लगाए गए।

रिपोर्ट- आयुष साहू